प्लास्टिक के लिफाफे पर रोक हेतु अधिकारियों को मिले अधिकार


जालन्धर, 16 जून (शिव शर्मा) : प्रदेश में प्लास्टिक के लिफाफे पूरी तरह खत्म करने के लिए सरकार ने अधिकारियों को जवाबदेह बनाते हुए उन्हें कार्रवाई करने के लिए न केवल अधिकार दिए हैं बल्कि उन्हें अथारिटी बना दिया गया है ताकि वह प्लास्टिक के लिफाफों की बिक्री को बिल्कुल खत्म कर दें। पंजाब में प्लास्टिक के लिफाफों की बिक्री जनवरी 2016 में पूरी तरह से बंद कर दी गई थी परंतु अभी भी निगमों व कमेटियों में अनमने ढंग से कार्रवाई की जा रही थी जिसके बावजूद अभी तक प्लास्टिक के लिफाफों की बिक्री पूरी तरह खत्म नहीं हुई थी। प्रदेश सरकार ने अधिकारियों को अब इसकी बिक्री पर रोक लगाने के लिए जिन्हें अथारिटी बनाया है, उनमें निगम की हद में कमिश्नर को अधिकार दिए गए हैं कि वह लिफाफों की बिक्री खत्म करने के लिए कार्रवाई के लिए अथारिटी होंगे और इसके अलावा म्यूनिसिपल कौंसिल या नगर पंचायत में ई.ओ. अथारिटी बने हुए है और ग्राम पंचायत के क्षेत्र में पंचायत सचिव को प्लास्टिक के लिफाफों की बिक्री खत्म करने के लिए अधिकृत किया गया है। वातावरण पंजाब के डायरैक्टर के.एस. पन्नू ने ‘अजीत समाचार’ को बताते हुए कहा कि प्रदेश में वह यह अधिकारी प्लास्टिक के लिफाफाें की बिक्री रोकने के अलावा स्टाक पकड़कर उन पर कार्रवाई करेंगे। हद के मुताबिक जिन अधिकारियों को अधिकृत किया गया है, वह जुर्माने से अलावा सज़ाएं भी देने के अधिकार रखते हैं। पन्नू के अनुसार मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरेन्द्र सिंह द्वारा वातावरण साफ रखने के लिए प्लास्टिक के लिफाफों को खत्म करने के लिए आदेश दिया गया है, जिसका पालन किया जा रहा है। उधर जानकारी के मुताबिक जहां प्लास्टिक के लिफाफों की फैक्टिरयों पर निगम के अलावा पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारी भी कार्रवाई करेंगे। पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के सीनियर एस.ई. इंजीनियरिंग हरबीर सिंह का कहना था कि अभी कम संख्या में मक्की से प्रदूषण मुक्त लिफाफे बनते हैं और जब इसकी फैक्टरी पंजाब में लग जाएगी तो ज्यादा बिकने से इनकी कीमत कम हो जाएगी और वैसे जालन्धर में पंजाब का पहला प्लांट लगाने का काम प्रारम्भ हो चुका है।