बीजेपी नेता चिन्मयानंद को एसआईटी ने किया गिरफ्तार


शाहजहांपुर, 20 सितम्बर (भाषा) : यौन उत्पीड़न मामले में पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को विशेष जांच दल की एक टीम ने सुबह उनके आवास से गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया। चिन्मयानंद को विशेष जांच दल ने सीजेएम की अदालत में पेश किया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। हालांकि चिन्मयानंद के वकील ने उनका स्वास्थ्य ठीक न होने का हवाला देते हुए उन्हें लखनऊ के किंग जॉर्ज मैडीकल यूनिवर्सिटी में भेजने का अनुरोध किया था। चिन्मयानंद के खिलाफ भादंसं की विभिन्न धाराओं के तहत मुकद्दमा दर्ज किया गया है। एसआईटी की टीम ने स्वामी चिन्मयानंद को मुमुक्षु आश्रम स्थित उनके आवास दिव्य धाम से सुबह आठ बज कर करीब 50 मिनट पर गिरफ्तार किया। शाहजहांपुर के राजकीय मैडीकल कॉलेज में उनका चिकित्सकीय परीक्षण कराया गया। चिन्मयानंद की गिरफ्तारी को विशेष जांच दल ने बेहद गोपनीय रखा। शहर में ज़िला अस्पताल, वहां से कलैक्ट्रेट तक जाने वाले मार्ग पर, कलैक्ट्रेट से ज़िला कारागार तक और मुमुक्षु आश्रम के गेट पर भी पुलिस बल तैनात है। एसआईटी की टीम दर्जन भर से अधिक गाड़ियों के काफिले
के साथ चिन्मयानंद को गिरफ्तार करने उनके आवास पर पहुंची। इस बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि पीड़िता की आत्मदाह करने की धमकी और जनता एवं मीडिया की ओर से बने दबाव के कारण उत्तर प्रदेश सरकार यह कार्रवाई करने को विवश हुई।
चिन्मयानंद ने अपना अपराध कबूल किया :
एसआईटी : विधि की छात्रा से दुष्कर्म के आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद सहित चार लोगों को शुक्रवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने गिरफ्तार किया है। एसआईटी प्रमुख और पुलिस महानिरीक्षक नवीन अरोड़ा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि
चिन्मयानंद को मसाज (मालिश) की वीडियो क्लिपिंग भी दिखायी गईं, जिस पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा,‘‘जब आपको सब पता ही चल गया है तो मुझे कुछ नहीं कहना। मैं अपना अपराध स्वीकारता हूं और अपने कृत्य के लिए शर्मिन्दा हूं।