हड़ताल के कारण आज बंद रहेंगे देश भर के बैंक


नई दिल्ली/लुधियाना, 21 अक्तूबर (भाषा/ जुगिंद्र अरोड़ा) : सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय और जमा राशि पर ब्याज दर घटने के विरोध में कुछ कर्मचारी यूनियनों ने मंगलवार को देशव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। इससे बैंकों में कामकाज प्रभावित हो सकता है। भारतीय स्टेट बैंक सहित ज्यादातर बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस संबंध में पहले ही सूचित कर दिया है। सार्वजनिक क्षेत्र के कई बैंकों के विलय और जमा राशि पर दरों में गिरावट के विरोध में यूनियनों ने एक दिन की हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। हड़ताल का आह्वान आल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) तथा बैंक एम्पलाइज फेडरेशन आफ इंडिया (बीईएफआई) ने किया है। हालांकि, अधिकारी और निजी क्षेत्र के बैंक हड़ताल में शामिल नहीं होंगे। एआईबीईए के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने कहा कि मुख्य श्रमायुक्त द्वारा बुलाई गई बैठक का नतीजा सकारात्मक नहीं रहने की वजह से हमने हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। मुख्य श्रमायुक्त के समक्ष भारतीय बैंक संघ (आईबीए) और यूनियनों की बैठक में कोई सहमति नहीं बन पाई है। वहीं स्टेट बैंक आफ इंडिया से संबंधित संगठन नैशनल कंफैडरेशन आफ इंडिया इम्पलाईज के चंडीगढ़ सर्कल के प्रधान कामरेड इकबाल सिंह मल्ली व महासचिव के. के. खुल्लर ने बताया कि हड़ताल में उनके संगठन की ओर से हिस्सा न लेने का फैसला किया गया है। दूसरी तरफ कामरेड नरेश गौड ने कहा कि उनका संगठन सारे बैंक कर्मचारियों की सबसे बड़ा संगठन है और उनकी ओर से केंद्र सरकार की बैंक विरोधी व कर्मचारी विरोधी नीतियों के खिलाफ हमेशा संघर्ष किया है और इसी तरहत उनकी ओर से आज हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया गया है।