फरवरी 2020 के बाद भी एफएटीएफ की ‘ग्रे’ सूची में बना रह सकता है पाकिस्तान


इस्लामाबाद, 8 नवम्बर (भाषा): मनी लांड्रिंग तथा आतंकवाद वित्तपोषण के मामले में जोखिम वाली छवि के चलते पाकिस्तान फरवरी 2020 के बाद भी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की ‘ग्रे’ सूची में बना रह सकता है। मीडिया रिपोर्टों में यह आशंका व्यक्त की गई है। स्थानीय अखबार डॉन ने आर्थिक मामलों के विभाग के प्रभारी मंत्री हम्माद अजहर के हवाले से कहा कि पाकिस्तान की जोखिम छवि के चलते इसके समक्ष कई अन्य देशों की तुलना में अधिक चुनौतियां हैं। अजहर ने नैशनल असेम्बली की स्थायी समिति (वित्त एवं राजस्व) की एक बैठक में यह कहा।