मुस्लिम भाईचारे को भी श्री करतारपुर साहिब जाने की मिली अनुमति


अमृतसर, 18 नवम्बर (सुरिन्द्र कोछड़) : धार्मिक पर्यटन को उत्साहित करने के लिए पाकिस्तान सरकार ने वहां के आम नागरिकों को भी गुरुद्वारा श्री दरबार साहिब करतारपुर साहिब में जाने की आज्ञा दे दी है। मुरीदके-नारोवाल सड़क के रास्ते गुरुद्वारा साहिब के दर्शनों के लिए जाने वाले पाकिस्तान के मुस्लिम नागरिकों  से 200 रुपए दाखिला फीस ली जा रही है। प्राप्त जानकारी अनुसार 200 रुपए (पाकिस्तानी करंसी) की अदायगी करने के बाद मुस्लिम श्रद्धालुओं को हरे रंग के कागज़ से प्रकाशित जो रसीद जारी की जा रही है उस के सबसे ऊपर ‘दरबार साहिब करतारपुर पाकिस्तान’, इस के नीचे तिथि, रसीद नंबर व उस के नीचे अंग्रेज़ी में ‘दिन की यात्रा के लिए परमिट (सिखों के अलावा)’ लिखा गया है और इस के साथ यात्रा करने वाले का नाम-पता व और जानकारी दर्ज की जा रही है। सब से नीचे अंग्रेज़ी व गुरमुखी में ‘व्यक्तिगत रसीद’ व ‘सेवा चार्ज 200 रुपए लिखा गया है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी मुस्लिम श्रद्धालु उक्त सेवा यात्रा रसीद मिलने के बाद ही गुरुद्वारा साहिब में दाखिल हो सकते है व उनको सिर्फ दिन के समय ही अस्थान के अंदर दाखिल होने की मंजूरी दी गई है।’ लाहौर से बाबर जालन्धरी ने ‘अजीत समाचार’ के साथ इस बारे जानकारी सांझी करते बताया कि सिख धर्म की मर्यादा को ध्यान में रखते हुए गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब जाने वाले पाकिस्तानी मुस्लिम श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा साहिब में प्रकाश अस्थान व मुख्य आसन भजन के अंदर जाने की मंजूरी नहीं दी गई है। इस के चलते मुस्लिम श्रद्धालु सिर्फ श्री गुरु नानक देव जी की मज़ार साहिब व समाधि के ही दर्शन कर सकेंगे।