किसानों ने कर्ज़े ’ वापिस करने व बैंकों ने कर्ज़ देने से ‘हाथ’ पीछे खींचे


चंडीगढ़, 20 नवम्बर (विक्रमजीत सिंह मान): पंजाब सरकार की कर्ज़ माफी योजना का किसानों को कितना फायदा हुआ है, इस बारे तो सरकार को ही पता होगा परंतु राज्य स्तरीय बैंक कमेटी की बैठक में यह बात ज़रूर सामने आई है कि अब यहां किसानों ने कर्ज़े वापिस करने से हाथ पीछे खींच वहीं बैंकों ने भी किसानों को कर्ज़े देने से मुंह मोड़ लिया है। बैठक में यह बात सामने आई है कि राज्य सरकार द्वारा किसान  कर्ज़ माफी स्कीम शुरू करने मगर जो किसान कर्ज़ा वापिस कर रहे हैं उनमें ज्यादातर किस्तें अदा करने से पीछे हट गए हैं। जानकारी अनुसार कर्ज़े न वापिस करने वाले किसानों को डिफाल्टर घोषित किए जाने के बाद बैंकों का कुल 9049 करोड़ रुपया फंस गया है जो अभी भी बकाया बताया जा रहा है। उधर इस दौरान यह बात भी सामने आई है कि कई किसानों ने अलग-अलग बैंकों से कर्ज़े उठाए हुए हैं व अब किस्तें नहीं भर रहे जिससे वित्त मंत्री स. मनप्रीत सिंह बादल ने बैंकों को हिदायत दी कि किसानों को पूरी दस्तावेज़ी जांच के बाद ही कर्ज़ दिया जाए।