स्पेन को शूट कर रूस क्वार्टरफाइनल में


मास्को, 1 जुलाई (एजैंसी) : मेजबान रूस ने विश्व कप 2018 में अपना स्वप्निल अभियान जारी रखते हुए आज यहां 2010 के चैंपियन स्पेन को पेनल्टी शूटआउट में 4-3 से हराकर 48 साल बाद क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।   रूस की इस जीत के नायक निश्चित तौर पर उसके गोलकीपर इगोर अकीनफीव रहे जिन्होंने मैच के दौरान कई शानदार बचाव किये और फिर पेनल्टी शूट आउट में भी दो बचाव करके लुजनिकी स्टेडियम में जश्न में डुबो दिया। नियमित और अतिरिक्त समय तक मैच 1-1 से बराबरी पर था। स्पेन ने नियमित और अतिरिक्त समय में गेंद को 79 प्रतिशत समय तक अपने कब्जे में रखा लेकिन वह रूसी रक्षापंक्ति विशेषकर गोलकीपर अकीनफीव को भेदने में नाकाम रहे। उसने 11वें मिनट में सर्गेई इग्नाशेविच के आत्मघाती गोल से बढ़त बनायी। रूस को 41वें मिनट में पेनल्टी मिली जिस पर आर्टम दजयुबा ने बराबरी का गोल किया। आखिर में विजेता का फैसला पेनल्टी शूटआउट से हुआ। रूस के लिये फेडोर समोलोव, इग्नाशेविच, अलेक्सांद्र गोलोविन और डेनिस चेरीशेव गोल करने में सफल रहे। स्पेन की तरफ से आंद्रेई इनिस्टा, गेर्राड पिक और सर्गियो रामोस ने गोल किये लेकिन कोके और इयगो एस्पास दोनों के शॉट अकीनफीव ने बड़ी खूबसूरती से रोक दिये।  रूस (सोवियत संघ) ने इससे पहले 1970 में अंतिम आठ में जगह बनायी थी। वह अब क्वार्टर फाइनल में सात जुलाई को क्रोएशिया और डेनमार्क के बीच होने वाले मैच के विजेता से भिड़ेगा। लीग चरण में अजेय रहे स्पेन ने रूस के खिलाफ सतर्क शुरुआत की। शुरू में लग रहा था कि दोनों टीमें एक दूसरे को परखने की कोशिश कर रही हैं लेकिन 11वें मिनट में इग्नाशेविच के आत्मघाती गोल से रूस बैकफुट पर चला गया। यूरी झिरिकोव ने रूसी गोल के बायीं तरफ नाचो को गिरा दिया जिसके कारण स्पेन को फ्री किक मिली। इस्को की फ्रीकिक ने रूसी डिफेंडर इग्नाशेविच को परेशानी में डाल दिया। उन्होंने गोल बचाने के लिये सर्गियो रामोस को भी नीचे गिरा दिया लेकिन गेंद उनकी एड़ी से लगकर गोल में समा गयी। रूसी गोलकीपर इगोर अकीनफीव के पास उसे रोकने का कोई मौका नहीं था। स्पेन के कप्तान को लगा कि गोल उन्होंने किया है। वह जश्न भी मनाने लगे लेकिन जल्द ही साफ हो गया कि गेंद रामोस नहीं बल्कि इग्नाशेविच के पांव से लगकर गयी है। इस गोल से इग्नासेविच (38 साल 252 दिन) विश्व कप में सबसे अधिक उम्र में आत्मघाती गोल करने वाली खिलाड़ी भी बन गये। इससे पहले रिकार्ड हांडुरास के नियोल वालाडर्स (37 साल 43 दिन) के नाम पर था जिन्होंने फ्रांस के खिलाफ 2014 में यह गोल किया था।