गन्ने की पिराई बढ़ने से चीनी में मंदा जारी: खांडसारी भी टूटी


नई दिल्ली, 10 नवम्बर (एजेंसी): गत सप्ताह यूपी, बिहार, हरियाणा में गन्ने की पिराई रफ्तार बढ़ जाने से नया चीनी उत्पादन भी अधिक हो गया। वहीं लोकल व चालानी मांग कमजोर होने से पुरानी चीनी मिलों ने 30/60 रुपए क्विंटल और घटाकर व्यापार किया। नई चीनी के भाव कुछ मिलों ने थोड़ा नरम कोट किये, जिससे इसमें और मंदे के आसार बन गये हैं। उधर खांडसारी भी गुड़-चीनी की अपेक्षा काफी ऊंची होने एवं नये माल की आवक 300 रुपए लुढ़क गयी। आलोच्य सप्ताह यूपी के सिम्भावली, मुजफ्फरनगर, सकौती, मोहिउद्दीनपुर, सरसावा, मलखपुर सहित पश्चिमी-मध्य यूपी की लगभग 14-15 मिलों में गन्ने की पिराई की रफ्तार तेजी गति से होने लगी तथा नई पिराई पर गत वर्ष की अपेक्षा गन्ने में रिकवरी 0.3 प्रतिशत अधिक बैठने की खबर आ रही है, जिससे विशेषज्ञ यूपी में 120 लाख टन का उत्पादन अनुमान लगाने लगे हैं, जो गत वर्ष की अपेक्षा लगभग दो-तीन लाख टन अधिक बैठेगी। इसी तरह महाराष्ट्र, आंध्र, कर्नाटक  सहित अन्य राज्यों में भी बाढ़ व बरसात से केवल 10 प्रतिशत क्षेत्रों में उत्पादन की कमी हो सकती है, लेकिन 90 प्रतिशत क्षेत्रों में 15 प्रतिशत की वृद्धि होने का अनुमान आ रहा है क्योंकि गन्ने की ग्रोथ खेतों में पानी मिलने से 6 से 7 इंच अधिक हुई है। दूसरी ओर गत पिराई सत्र में सरकार द्वारा निर्यात लक्ष्य से 12 लाख टन निर्यात कम हुआ है।