मामला डिस्क्वालीफिकेशन का मुझे और समय दिया जाए, खैहरा की स्पीकर से मांग


चंडीगढ़, 20 मई (एन.एस. परवाना): आम आदमी पार्टी से बागी व पंजाब एकता पार्टी के प्रधान विधायक सुखपाल सिंह खैहरा जो पिछले लगभग 6 महीनों से दल बदलू विरोधी कानून की उल्लंघना करने के दोष में विधायकी से अयोग्य ठहराने की मांग के केस का सामना कर रहे हैं, फिर राज्य विधानसभा के स्पीकर राणा के.पी. सिंह से उत्तर देने के लिए और समय मांगा है। पता लगा है कि उन्होंने ई-मेल द्वारा स्पीकर को यह कह कर छठी बार अपील की है कि मैंने बठिंडा क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा है, जिसका परिणाम 23 मई को निकलने वाला है, मैं उस दिन वहां मौजूद रहने वाला हूं, इसलिए 21 मई की बजाय मुझे कोई और तिथि दी जाए ताकि मैं चंडीगढ़ में स्पीकर के सामने पेश होकर अपना केस पेश कर सकूं कि मैंने ‘आप’ क्यों व किन हालातों में नई पार्टी बनाई? इसी तरह के केस का सामना जैतों से ‘आप’ के विधायक बलदेव सिंह भी कर रहे हैं, जिन्होंने श्री खैहरा की पार्टी की टिकट पर लोकसभा हलका फरीदकोट से चुनाव लड़ा है। इस दौरान ‘आप’ से बागी होकर 2 अन्य विधायकों रोपड़ से अजीत सिंह संदोआ और मानसा से नाज़र सिंह मानशाहिया कई सप्ताह पहले कांग्रेस में शामिल हुए थे, के केस का कल 21 मई को स्पीकर श्री राणा फैसला सुनाने वाले हैं कि क्या उन्होंने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा किसी के दबाव में आकर दिया है कि अपनी मर्जी से ज़मीर को सामने रख कर यह कदम उठाया है? दाखा से ‘आप’ के विधायक एच.एस. फूलका का इस्तीफा भी कई महीनों से लटक रहा है।