पाक में मदरसों को आतंकवाद के साथ जोड़ना पूरी तरह गलत : मौलाना फजलूर रहमान


अमृतसर, 18 जनवरी (सुरिन्दर कोछड़) : पाकिस्तान में जमीयत उलेमा-इस्लाम-फज़ल (जे.यू.आई.एफ.) के नेता मौलाना फजलूर रहमान ने मदरसों और वहां पढ़ाए जा रहे पाठ्यक्रम संबंधी कहा है कि मदरसा पाठ्यक्रम में सुधार और इसके नाम पर धार्मिक शिक्षा नीति में किसी भी तरह के बदलाब को स्वीकार नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मदरसों को आतंकवाद के साथ जोड़ना गलत बात है। इससे पहले भी मौलाना ने पाकिस्तान में इमरान खान सरकार को सत्ता से हटाने के लिए आज़ादी मार्च निकाला था, जिसमें पाकिस्तान की अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों ने भी भाग लिया था। मौलाना को इसमें बहुत बड़े स्तर पर समर्थन मिला था। मौलाना ने कहा कि मदरसे पाकिस्तान में पढ़ाई फैला रहे हैं और समाज में शांति के लिए काम कर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने एक अन्य जगह पर अपने संबोधन में कहा कि मदरसों में सुधार लाने की प्रथा निंदनीय है और इसका समाज में बहुत बुरा असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी केन्द्रीय कमेटी ने देशभर में शिक्षा विभाग की उक्त अभ्यास के खिलाफ आंदोलन शुरू करने का फैसला किया है। सरकार के खिलाफ एक अन्य आंदोलन शुरू करने की बात करते हुए मौलाना ने कहा कि जल्दी ही वह एक अन्य आज़ादी मार्च करेंगे, जिसके झटके इस्लामाबाद तक महसूस किए जाएंगे।