हरिमंदिर साहिब में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब


गगनदीप शर्मा
अमृतसर, 12 नवम्बर : सिख धर्म के संस्थापक श्री गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व श्रद्धापूर्वक मनाया गया। श्री हरिमंदिर साहिब, गुरुद्वारा शहीद गंज साहिब (शहीदां साहिब), गुरुद्वारा पलाह साहिब, गुरुद्वारा कोठा साहिब सहित अमृतसर के दर्जनों गुरुद्वारों में श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। श्री हरिमंदिर साहिब में तो श्रद्धालु बीती शाम को ही आने शुरू हो गए। उन्होंने आज प्रात:काल पावन सरोवर में आस्था की डुबकी लगाकर सरबत के भले की अरदास की। इस सुअवसर पर सुंदर जलौ सजाए गए। शाम को श्री हरिमंदिर साहिब की परिक्रमा में दीप माला की गई। फिर रहिरासि का पाठ की समाप्ति होने पर आतिशबाजी की गई जो श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केंद्र बनी। गुरुद्वारा मंजी साहिब में सारी रात धार्मिक दीवान सजाए गए, जहां रागी-ढाडी जत्थों द्वारा गुरु साहिबानों के जीवन पर प्रकाश डाला गया। दूसरी तरफ इस खुशी के मौके पर जगह-जगह लंगर लगाए गए और धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। श्री हरिमंदिर साहिब में नतमस्तक होने पहुंचे सरबजीत सिंह निवासी गांव गौंसाबाद, राम तीर्थ रोड ने ‘अजीत समाचार’ के साथ विशेष बातचीत करते हुए कहा कि उसे यह देखकर बहुत अच्छा लग रहा है कि इस धार्मिक स्थल पर हरेक धर्म के लोग माथा टेकने आए हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी को गुरु साहिबान द्वारा बताए गए जाति-पाति का भेदभाव मिटाने, किरत करने, नाम जपने, वंड छकने, महिलाओं का सम्मान करने इत्यादि उपदेशों पर चलना चाहिए। इसी प्रकार बाकी संगत ने भी अपने-अपने विचार साझे करके आपस में प्रेम-प्यार से रहने और सभी धार्मिक पर्व एकजुट होकर मनाने के लिए प्रेरित किया।